APMC home

एपीएमसी परिचय

एपीएमसी बिलासपुर का गठन मई, 1979 में हिमाचल प्रदेश कृषि उत्‍पाद मंडी अधिनियम, 1969 (1970 की अधिनियम संख्‍या 9) के तहत किया गया था, जो कि अब हिमाचल प्रदेश कृषि एवं बागवानी उत्‍पाद विपणन (विकास एवं नियमन) अधिनियम, 2005 (2005 की अधिनियम संख्‍या 20), की धारा 86 से निरसित हो चुका है। कृषि उत्‍पादों के बेहतर नियमन और जिले के उत्‍पादकों को बेहतर विपणन सुविधा और सूचनाएं उपलब्‍ध करवाने के लिए राज्‍यपाल ने 25 मई, 2005 को इसे मंजूरी दी थी। अधिसूचना संख्‍या HMB-3/72 (ii) DT. 24 July 1973 (एचएमबी-3/72 (ii) दिनांक 24 जुलाई 1973) के जरिये संपूर्ण बिलासपुर जिले को मंडी समिति के ऑपरेशन के क्षेत्र के रूप में अधिसूचित किया गया था।

अपने शुरुआती दिनों में समिति ने सिर्फ दो डीलरों के साथ काम शुरू किया था, जिनकी संख्‍या 2012 तक बढ़कर 203 तक पहुंच चुकी है। शुरुआती दौर में मंडी समिति की आमदनी भी हजारों में ही थी, जो कि बढ़कर वर्ष 2012-13 में 97 लाख रुपए तक पहुंच गई। अब कृषि उत्‍पाद मंडी समिति अपने कार्यालयी और विकासात्‍मक खर्चे अपनी आमदनी से ही पूरा कर रही है।

प्रमुख मंडी, बिलासपुर की स्‍...