Counter

  • Unique Visitor:121,779

    मंडी एपीएमसी

    हिमाचल प्रदेश सरकार ने एपीएमसी, मंडी के लिए 10 गैर सरकारी सदस्‍य मनोनीत किए हैं और दिनांक 18-02-2009 को श्री वेदप्रकाश एपीएमसी, मंडी के अध्‍यक्ष चुने गए।

    पदेन सदस्‍य:-

    1.      उपायुक्‍त- उपाध्‍यक्ष

    2.      कृषि उपनिदेशक

    3.      बागवानी उपनिदेशक

    4.      पशु पालन उपनिदेशक

    5.      प्रभारी, कृषि विज्ञान केंद्र

    6.      समिति के सचिव

    एपीएमसी मंडी के प्रमुख कार्य इस प्रकार हैं:-

    1.      अधिसूचित मंडी क्षेत्र में अधिनियम के प्रावधानों और उनके तहत तैयार नियमों और उपनियमों को लागू करवाना।

    2.      मंडी क्षेत्र में एक मंडी स्‍थापित करना और बोर्ड से संबद्ध कृषि उत्‍पादों की खरीद, बिक्री, भंडारण, भार और प्रसंस्‍करण के संबंध में आने वाले लोगों को सीधे सुविधा उपलब्‍ध करवाना।

    3.      मंडी के अधीक्षण, निर्देशन और नियंत्रण या फिर मंडी क्षेत्र में किसी भी स्‍थान पर कृषि उत्‍पादों के विपणन के नियमन अथवा उक्‍त उद्देश्‍यों से संबंधित मामलों के उद्देश्‍य के लिए कार्य करना और अधिनियम के तहत उपलब्‍ध करवाई गई शक्‍तियों का प्रयोग करना।

    4.      ऐसे सभी कार्य करना जिनसे भाव निर्धारित करने की प्रणाली और मंडी क्षेत्र में होने वाले हरेक लेनदेन में पारदर्शिता आए।

    5.      मंडी क्षेत्र के अंदर मंडी स्‍थलों और उप मंडी स्‍थलों का रखरखाव और प्रबंधन।

    6.      मंडी क्षेत्र में विपणन के लिए आवश्‍यक सुविधाएं उपलब्‍ध करवाना और मंडी स्‍थल के अंदर और बाहर एवं उप मंडी स्‍थल के अंदर और बाहर कृषि उत्‍पादों के लिए परिवहन व्‍यवस्‍था उपलब्‍ध करवाना।

    7.      इस अधिनियम में वर्णित नियमों के तहत तैयार प्रावधानों और प्रक्रियाओं और समिति के उपनियमों के अनुसार अधिसूचित कृषि उत्‍पादों की बोली का नियमन, संचालन एवं परिवीक्षण।

    8.      किसी भी प्रकार के लेन-देन को लेकर खरीदार और विक्रेता के बीच पैदा हुए विवाद का निपटारा करना।

    9.      वे सभी वसूली करना, जिनके लिए समिति प्राधिकृत है।

    10.  इस अधिनियम अथवा इसके अनुसार निर्मित नियमों और उपनियमों के तहत किया गया कम्‍पाऊंड अपराध।

    11.  कृषि विपणन में सुधार के लिए इस अधिनियम के तहत किया जाने वाला कोई भी अन्‍य कार्य।